मीडिया, मीडिया … कहते है लोग!

मीडिया, मीडिया … कहते है लोग,
किसका है यह मीडिया जानते ना लोग|

गाँव-गाँव में रेडियो पंहुचा
रेडियो ना कहकर इसे “बाजा” समझा
बोला कवि, बोला संगीतकार
बोली महिला अपनी वाणी में मन-की-बात|

अपने गाँव की बातें सुन कर;
अपनी भाषा में भली भातिं जानकार,
खुश हुआ बच्चा और खुश हुए सारे लोग|

बच्चा बोला गली-गली सिम सिम सुनता हु,
दादी बोली गाँव की गठारिया सुनती हु|
चाचा बोले लोक गीत की गूँज मन को भा जाती है,

ऐसा मानो जैसे हमारा ही रेडियो हो|
भाषा हमारी, गीत हमारे;
घर-घर पोहचे इसके द्वारे|

ना जाने कहा से यह मीडिया आया,
हमको है विश्वास दिलाया|
इसने ना जाती देखी, ना कोई बेद्भाव समझा
सबको साथ लेकर जेसे माला में है मोती पिरोया|

क्या देखे कभी ऐसा मीडिया जिसे आप अपना कह पाते?
मीडिया, मीडिया … कहते है लोग
किसका है यह मीडिया जानते ना लोग!

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s